Magh Mela – Lal Mahendra Shiv Sakti Sewa Ashram Prayag will organize the Bhandara for 24 hours

माघ मेला प्रयाग (Allahabad) – 2017

Lal Mahendra Shiv Shakti Sewa Ashram (Om Namah Shivay)  द्वारा माघ मेले के अवसर पर बुधवार से एक विशाल भंडारे का आयोजन शुरू होने जा रहा है जो फ़रवरी 10 तक चलेगा जिसमे करोड़ों भक्तों को प्रसाद और भोजन करने का लक्ष्य है , अगर आप भी प्रयाग (इलाहाबाद) माघ मेले में जाते है तो ॐ नमः शिवाय आश्रम के भंडारे और प्रसाद को जरूर ग्रहण करें ।  There are many program organized in Magh mela free fooding is also organized for people who attend the Mela. There are many communities that organize the free fooding or Bhandara.

magh mela bhandra

From 15 January 2017 our Organisation Lal Mahendra Shiv Sakti Sewa Ashram Prayag will organize the Bhandara for 24 hours. This Bhandara will continue till Magh Mela end. During this period Million of people who attend the Magh mela will be served through the bhandara. Our Organisation organise bhandara every year  in magh/kumbh mela. In this bhandara many sadhu mahatma will also take part and will be get served. Bhandara will be started 11 January 2017 near Sangam Prayag (Allahabad). This bhandara will end on 10 Feb 2017 and during this period millions of people and sadhu will be served.

The important dates during Magh Mela 2017 are:

From Januray 2017 our Organisation Lal Mahendra Shiv Sakti Sewa Ashram will again organize the Bhandara for 24 hours. This Bhandra will continue till Maha Mela end. During this people Million of people who attend the Maha Kumbh Mela will be Served through the bhandra.

गुरुदेव भगवान का सबसे बडा कार्य

कुम्भ मेला व माघ मेले में विशाल भण्डारे का आयोजन करना ।
हमारे गुरुदेव भगवान की वाणी हे:-
न कोई भूखा जाने पाये
न कोई भूखा सोने पाये
न कोई भूखा रोने पाये
मनुष्य के लिए सबसे बडा दान अन्न दान होता है क्योंकि इससे जीवन की रक्षा होती है। हमारे गुरुदेव भगवान अपने भक्तों से साल भर मूठी-2 चावल, तेल, नमक, हल्दी, एकत्रित करवाते हैं । जब भण्डारा प्रारम्भ होने में 2 माह रह जाता है तो कड़वा तेल, रिफ़ाइन्ड बेसन ये भक्तों से माँगते हैं तथा आर्थिक सहयोग भी लेते हैं ।

सभी भक्त खुशी -2 अपनी क्षमतानुसार सहयोग करते हैं । ये भण्डारा जनवरी माह में प्रारम्भ होकर फरवरी माह में सम्पन्न होता है । प्रत्येक दिन लाखों लोग प्रातः 6 बजे से लेकर के रात्रि के 2 बजे तक प्रसाद ग्रहण करते हैं । यह भण्डारा संगम मार्ग सेक्टर -2 में बनता है इस भण्डारे को बनाने के लिए बड़े-2 कराहे व बड़े-2 भगोनों का प्रयोग किया जाता है ।

सुबह के समय कढी-भात और 12 बजे से सारी रात पूड़ी-सब्जी व चावल का वितरण किया जाता है । इस कार्य को करने के लिए हमारे गुरुदेव भगवान के सैकड़ो सेवादार दिन-रात रुक कर मदद करते है ।  खाना खिलाने में स्वच्छता रहे, तीर्थ यात्रियों को पत्तल में खाना न देकर थाली में खाना खिलाया जाता है । वह थाली सेवागारों द्वारा माँजी जाती है, जो भी तीर्थयात्री साधू-महात्मा गरीब लोग आते हैं  उनको सर्वप्रथम आदर सहित बैठाकर चरण पखारा जाता है, आरती उतारी जाती है फिर उनको भण्डारे का प्रसाद दिया  जाता है क्योंकि हमारे गुरुदेव भगवान कहते हैं कि अतिथि भगवान होते हैं जो हमारे यहाँ आ रहे हैं उनको भगवान के रूप में ही देखो ।

ये भण्डारा केवल एक स्थान पर ही नहीं चलता अपितु यह भण्डारा निम्नलिखित सेक्टरों पर भी चलता है:-
प्रथम सेक्टर – प्रशासन के सामने
दूसरा सेक्टर  – किला चौराहा
तीसरा सेक्टर – बड़े हनुमान मंदिर के सामने
चोथा सेक्टर – संगम के किनारे, इसके आलावा भी वर्ष में प्रमुख पर्वों पर विशाल भण्डारा किया जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *